गोवा के मुख्यमंत्री डॉ सावंत ने अपने गणतंत्र दिवस सन्देश में ‘स्वयंपूर्ण गोवा’ एवं प्रधानमंत्री मोदी के ‘सबका साथ, सबका  विकास ‘ की बात दोहराई


मुख्यमंत्री डॉ प्रमोद सावंत का सन्देश
पणजी :मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत 75वें गणतंत्र दिवस के ऐतिहासिक अवसर पर गोवा के लोगों को हार्दिक बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं देते हैं और उन सभी महान आत्माओं को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, जिनके संघर्ष और बलिदान ने भारत को एक स्वतंत्र देश बनाया।
मुख्यमंत्री ने अपने संदेश में कहा, ”हर साल यह दिन पूरे देश में देशभक्ति के उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह भारत के संविधान के अधिनियमन की याद दिलाता है जो 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था जो हमारे देश का मार्गदर्शक सिद्धांत है। संविधान दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक राष्ट्र भारत के सार का वर्णन करता है, साथ ही इसकी सांस्कृतिक विविधताओं पर भी उतना ही जोर देता है। ”
गोवा के लोगों को अपने संदेश में आगे मुख्यमंत्री ने कहा, ”गणतंत्र दिवस हमें हमारे स्वतंत्रता संग्राम और महान स्वतंत्रता सेनानियों की भी याद दिलाता है जिन्होंने हमें पूर्ण स्वराज दिलाने के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया। हम उन महान विभूतियों को भी याद करते हैं जिन्होंने हमारे संविधान का निर्माण किया। यह उनके प्रयासों का ही परिणाम है कि प्रत्येक नागरिक को हमारे संविधान में निहित मौलिक अधिकार प्राप्त हैं।
सीएम ने गोवा के लोगों से अपील की कि वे गोवा को शांति और समृद्धि की भूमि बनाने के लिए एकजुट होकर काम करने के लिए खुद को फिर से समर्पित करने का संकल्प लें। सीएम ने कहा, ”हमारी सरकार ने विकास की दिशा में कई महत्वपूर्ण कदम उठाए. हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी,के निरंतर मार्गदर्शन के तहत हम एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण में पूर्ण समर्पण के साथ गोवा के प्रत्येक नागरिक को विकास की सौगात देने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो “सबका साथ, सबका विकास” में विश्वास करता है। स्वास्थ्य और शिक्षा के सामाजिक क्षेत्रों को प्राथमिकता पर रखते हुए, हम रोजगार सृजन को महत्व दे रहे हैं और ‘स्वयंपूर्ण गोवा’ जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से उद्यमिता की भावना पैदा कर रहे हैं।
“आइए हम उन सभी बहादुर सैनिकों को धन्यवाद देकर गणतंत्र दिवस मनाएं जिन्होंने हमें आजादी दिलाने के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया और हमें दुनिया में सबसे अच्छे लिखित संविधानों में से एक देने के लिए कड़ी मेहनत की। आइए, विकसित भारत के निर्माण के लिए खुद को फिर से प्रतिबद्ध करें और सभी के बीच शांति, सद्भाव और भाईचारे को बढ़ावा देने का प्रयास करें, ”मुख्यमंत्री ने सन्देश में कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *